OMG:राम रहीम के डेरे के बागों का राज़ आया सामने, पेड़ की जड़ो से!

338

डेरा सच्चा सौदा से जुड़े होने का दावा करने वाले साधु गुरदास सिंह तुर ने डेरामुखी गुरमीत सिंह राम रहीम पर कई संगीन आरोप लगाए हैं। गुरदास दावा है कि डेरे के पास बाग-बगीचों में हत्याओं के कई राज दफन हैं। अगर इसकी ठीक से जांच कराई जाए, तो पेड़ों की जड़ों से कंकाल भी निकल सकते हैं

गुरदास ने कहा कि डेरा बाबा के इशारे पर कई मर्डर हुए। गुफा के पास बगीचे में जहां लाशें दफनाई गईं, बाद में वहीं पर पेड़-पौधे लगा दिए गए| गुफा के आसपास जब नवनिर्माण किया जाने लगा था, तब भी उन पेड़ों को काटने की इजाजत नहीं दी गई थी, ताकि साक्ष्य उजागर न हों |

साल 1996 में 2002 तक स्वयं को डेरे का साधु बताने वाले गुरदास ने बताया कि डेरे का पूर्व मैनेजर फकीरचंद अब भी लापता है। जिस कमरे में फकीरचंद रहता था, उसको ढहा कर जमीन की करीब 6 फीट तक खुदाई 2009-10 में कराई गई थी। इसी तरह से राजू उर्फ दिनेश नाम का लड़का भी साल 2006 से लापता है |

वह डेरे के प्रशासनिक ब्लॉक के तत्कालीन मैनेजर इंद्र सेन का सहायक नियुक्त था। उसकाे साधु बना कर नपुंसक कर दिया गया था। उसकी एक बहन भी है, जिसे साध्वी बनाया दिया। फिर उसके नाम से डेरे के सभी साधुओं के नाम की पॉवर ऑफ अटार्नी भी ले ली गई थी। तब से वह लापता है |

मेरे बारे में डेरा बाबा ने कोर्ट में बयान दिया था कि गुरदास सिंह तुर डेरे का साधु नहीं है, लेकिन असलियत यही है कि मैं डेरा का साधु रहा हूं, लेकिन वर्ष 2002 के बाद से मैंने डेरे में जाना छोड़ दिया, क्योंकि तब तक डेरे में आपत्तिजनक गतिविधियां शुरू हो गई थीं

मैंने डेरा छोड़ दिया तो नपुंसक होने से भी बच गया। मैं पुराने डेरे के पास सुखसागर कॉलोनी में रहता हूं। मेरे आसपास रहने वाले लोग भी तसदीक करते हैं कि मैं डेरे का ही साधु था

Source