रात में कबड्डी खेल रहा था ये, फिर दो लोगों ने घर में घुस किया ऐसा काम

189

खंडवा के खारकला गांव में एक युवक की हत्या के मामले में पुलिस ने खुलासा कर दिया है। हत्यारे गांव के दो युवक निकले जो मृतक की पत्नी पर से संबंध बनाना चाहते थे। घटनास्थल से मिली बनियान और चप्पल से पुलिस आरोपियों तक पहुंची। बताया जा रहा है कि आरोपियों ने जब युवक पत्नी से रेप का प्लान बनाया उस समय वो गणेशजी की झांकी सामने कब्ड्डी खेल रहा था

खंडवा के खारकला में 27 अगस्त की रात गांव के सुनील पिता दिनेश कोरकू की दो नकाबपोश बदमाशों ने घर में घुसकर हत्या कर शव को कुएं में फेंक दिया था।

पुलिस ने हत्या के दूसरे ही दिन घटनास्थल पर मिली चप्पल व बनियान के आधार पर हत्यारों की तलाश शुरू की तो पता चला कि दोनों चीजें बबलू की हो सकती है।

पुलिस ने बबलू को पूछताछ के लिए उठाया और सख्ती दिखाई तो उसने विजय के साथ हत्या करना कबूल किया। पूछताछ में उसने बताया वे दोनों सुनील की पत्नी से संबंध बनाना चाहते थे। घटना वाली रात जब सुनील गणपति उत्सव में कबड्डी खेल रहा था तभी उन्होंने उसके घर जाकर उसकी पत्नी से दुष्कर्म की योजना बनाई।

इसके बाद हमने जमकर शराब पी और फिर देररात उसके घर जा पहुंचे। हम जब घर में दाखिल हुए तो सुनील पत्नी क्षमा बाई के साथ घर में सो रहा था। हमारी आहट सुन वह उठ गया तो हम वहां से भागकर खेत में जा छिपे। इसके बाद रात 3 बजे हम फिर से आए और दरवाजा तोड़कर भीतर घुसे।

हम दोनों ने मुंह पर कपड़ा बांधा रखा था। हम सुनील को बंधक बनाना चाहते थे, लेकिन वह फिर से जाग गया। इसके बाद हमने सुनील का गला दबाया तो उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया, जबकि क्षमा इस दौरान वहां से भाग निकली

क्षमाबाई ने जैसे-तैसे खुद को बचाया और खेतों की ओर भाग गई। यहां उगी घास में छुपकर वह पूरी घटना देखती रही। उसने देखा कि नकाबपोश सुनील का शव घसीटते हुए संजय चंपालाल गुर्जर के कुएं तक ले गए। शव को इसमें फेंक दिया और भाग निकले

इसके बाद डरी-सहमी क्षमाबाई घास से निकली और घर जाकर सास को पूरी घटना बताई। घटना के बाद गांव में हड़कंप मच गया। रात में ही 100 डायल को फोन पर सूचना दी गई। कुएं में सुनील की कमीज दिखाई दे रही थी। शव निकालने के लिए गांव के लोग कुएं में उतरे

पानी अधिक होने के कारण शव तक नहीं पहुंच पाए। बाद में ग्रामीणों ने तीन मोटर पंप लगाकर कुएं का पानी कम किया। इसके बाद 9 घंटे की मशक्कत के बाद शव को खटिया के सहारे बाहर निकाला। सुनील की पीठ और जमीन पर घसीटने के निशान थे

आरोपी विजय पिता माणक उर्फ वीजू पास ही के गांव के स्कूल में चपरासी है व बबलू गांव में ही किराए से ट्रैक्टर चलाने का काम करता था। विजय अपने भाई के स्थान पर ही अनुकंपा पर स्कूल में नौकरी पर लगा था

सूत्रों के अनुसार विजय को शंका थी की मृतक के संबंध उसकी पत्नी से हैं। इसी के चलते वह उससे बदला लेना चाहता था। इसलिए वह सुनील की हत्या और उसकी पत्नी से संबंध बनाना चाहता था। इसलिए पांच दिन पहले जब सुनील कबड्डी खेल रहा था, तभी उसने पूरा प्लान बना लिया था। हत्या के पहले दोनों आरोपियों गने अपनी पत्नियों को मायके भी भेज दिया था।

Source