10वीं में पढ़ने वाली बच्ची एक दिन के लिए बन गयी पुलिस अधिकारी, लोग कर रहे है जज्बे को सलाम!

237

आज हमारे देश में बच्चों को उनके कला के लिए, प्रतिभा के लिए, उनके सम्मान के लिए सरकार, प्रशासन और कुछ संस्था समय समय पर उन्हें प्रोत्साहित करती रहती हैं. कभी किसी बच्चे को उपाधि देकर तो कभी किसी बच्चे को इनाम देकर उनकी कला और प्रतिभा के साथ साथ उनका भी सम्मान करते हैं. आज हम आपको कुछ इसी तरह का वाक्या बताने जा रहा हूँ, जो कि इलाहबाद का है. निबंध लिखने की प्रतियोगिता में विजेता 10वीं कक्षा की छात्रा को प्रशासन ने जो इनाम दिया उसे पाकर बच्ची बहुत उत्साहित नजर आई.

दरअसल इलाहाबाद पुलिस की एक अनोखी पहल सामने आई है. 5 अगस्त को इलाहबाद पुलिस द्वारा इंटर स्कूल निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया था जिसमें सौम्या दुबे नाम की लड़की जो कक्षा 10 छात्रा है, विजेता थी. पुलिस प्रशासन ने इस विजेता बच्ची को इनाम के रूम में एक दिन का थाना इंचार्ज (एसएचओ) बना दिया.जिसके बाद बच्ची पूरी जिम्मेदारी से पुलिस थाने में होने वाले कार्य के बारे में जानकारी ली.

आपकी जानकारी  के लिए बता दें कि सौम्या शहर के टैगोरे पब्लिक स्कूल के पढ़ने वाली होनहार छात्रा है. सौम्या अभी 10वीं में पढ़ती है. निबन्ध प्रतियोगिता में विजेता बनने के बाद जब उसे शहर का थाना अध्यक्ष( एसएचओ) बनाया गया था तो सौम्या शहर में भी निकली और लोगो से मुलाकात भी की और उन्हें कानून के मुताबिक काम करने की सलाह दी और ट्राफिक नियमों को पालन करने की अपील ली और खुद भी नियमों को पालन करने का संकल्प लिया

सौम्या इस सम्मान से काफी खुश नजर आई कि उन्हें शहर का एसएचओ बनने का मौका मिला, सम्मान मिला. सौम्या का कहना है कि वो आईएएस ऑफिसर बनना चाहती है. सौम्या के हौसले को देखते हुए उसके परिजनों ने भी ख़ुशी जताई है. इसके साथ ही इलाहबाद पुलिस के इस पहल के लिए सराहना मिल रही है. सौम्या का कहना है कि लड़कियों को यदि लड़कों के बराबर हक चाहिए तो अपनी जिम्मेदारी भी समझनी होगी। यातायात के नियमों का पालन करना होगा और पुलिस का सहयोग भी।

एसएसपी आनंद कुलकर्णी का कहना है कि ‘लोग पुलिस और पुलिस लोगों के बीच से है’. इस धारणा को प्रबल करने का काम किया जा रहा है. इसके साथ ही सौम्या के अलावा ने विजेताओं को भी पुलिस के कार्यभार को समझने के लिए अन्य जगहों पर भेजा गया. बताया जा रहा है कि कुछ दिन बाद इन बच्चों के अनुभव पुलिस के साथ साझा किया जाएगा और जो कमियाँ निकलेंगी उसे सुधारने पर काम किया जाएगा.

पुलिस द्वारा निबंध का विषय ‘बिना पुलिस का समाज’ पर निबंध लिखने के लिए प्रतियोगिता आयोजित की गयी थी जिसमें 25 बच्चे शामिल हुए थे. प्रतियोगिता में पहला स्थान प्राप्त करने वाली सौम्या दुबे को एसएसपी आनंद कुमार ने सम्मानित  किया.सभी छात्र अलग अलग स्कूल से थे. इस निबंध की कापियों को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के में अंग्रेजी विभाग की प्रोफेसर जया कपूर ने जाँची. जिसमें सौम्या दुबे अव्वल रहीं. इलाहाबाद पुलिस के कार्य को भी स्थानीय लोगो के साथ साथ सब लोग सराह रहे है.